बलिया

बलिया: सनसनीखेज हत्या का पुलिस ने किया खुलासा, भाड़े के शातिर अपराधी हुए गिरफ्तार

बलिया: जनपद की रसड़ा पुलिस व स्वाट टीम को बड़ी सफलता मिली है। थाना कोतवाली रसड़ा में पांच माह पूर्व एक महिला को गोली मारने के सनसनीखेज मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने तीन भाड़े के शातिर बदमाशों को दबोचा है।

जानकरी के अनुसार पुलिस ने हल्के फुल्के झड़प के बाद एक तमंचा, कारतुस तथा मोटर साइकिल भी बरामद किया है। पुलिस ने इस मामले में विनय कुमार पाठक उर्फ डुलडुल पुत्र राजेन्द्र पाठक ग्राम पठकौली थाना बांसडीह बलिया, अर्जुन गुप्ता पुत्र हीरालाल गुप्ता, और विक्की राम पुत्र अशोक राम निवासी गण चेता छपरा रानीगंज बाजार थाना बैरिया बलिया को अरेस्ट किया है।

पुछताछ के दौरान पकड़े गये अभियुक्त विनय कुमार पाठक उर्फ डुलडुल, जो पूर्व में कई थानो में हत्या/गैंगेस्टर जैसे जघन्य अपराध मे जेल जा चुका है, बताया कि 2017 में रसड़ा स्टेशन रोड पर विवादित मकान के विवाद में जेल में बन्द राजेश वर्मा पुत्र राम जी वर्मा द्वारा बलिया जेल मे ही बन्द शातिर अपराधी बबुआ सिंह पुत्र स्व0 श्री हरिहर सिंह निवासी धरनीपुर निवासी दुबहड़ बलिया के माध्यम से मुलाकात हेतु जेल में बुलाया गया।

उसने बताया कि बबुआ सिंह ने कहा कि रसड़ा मे डा दिनेश दत्त दुबे से राजेश वर्मा का मकान का विवाद चल रहा है जिसमे राजेश वर्मा की बहन मीरा देवी को  चोटिल करने की नियत से गोली मारना है।  एक लाख रुपये में सौदा तय किया गया। विनय पाठक व उसके सहयोगी अर्जुन गुप्ता व विक्की कुमार बाइक से स्टेशन रोड रसड़ा आये। जहाँ विवादित मकान के उपर चल रही कोचिंग के बहाने रैकी करके मीरा देवी को उपरोक्त अपराधियो द्वारा पहचान किया गया।

20 अप्रैल को तीनो अपराधी शाम 19:30 बजे के आस पास बाइक से रसड़ा आये। विनय पाठक व अर्जुन गुप्ता, मीरा वर्मा के घर के अन्दर गये व विक्की कुमार बाहर गाड़ी चालू करके खड़ा था। घर के अन्दर जाते ही पूर्व निर्धारित प्लान के अनुसार अर्जुन वर्मा ने मीरा देवी को 12 बोर के तमंचे से गोली मार दी। जो उसके पेट के दाहिने हिस्से मे लगी। इसके बाद तीनो व्यक्ति अंधेरे का लाभ उठाकर भाग गये।

इस सनसनीखेज घटना में श्रीमती शांती देवी पत्नी सुदामा प्रसाद निवासी स्टेशन रोड रसड़ा थाना रसड़ा बलिया द्वारा अपनी दुश्मनी निकालने की नियत से चार लोगों के के विरुद्ध पंजीकृत कराया गया था। अभियुक्तों द्वारा बताया गया कि गोली मारने के बाद वो लोग अपने-अपने घर चले गये। जहाँ पर 3-4 दिन के बाद रविकान्त सिंह के माध्यम से 95000 रुपया अपराधियों को दिया गया। इस पैसे में से 45000 रुपया विनय पाठक, 40000 रुपया अर्जुन गुप्ता और 10000 रुपये विक्की गुप्ता द्वारा बाँट लिया गया।

शेष 5000 रुपया लेने के लिए अपराधी रसड़ा आ रहे थे जिनको पुलिस मुठभेड़ के दौरान पकड़ा गया है। पकड़े गये अपराधियों के विरुद्ध थाना रसड़ा पर मुअसं 282/18 धारा 307/504 IPC व 283/18 धारा 3/25 Arms Act.  के तहत अभियोग पंजीकृत किया गया है। पुलिस ने बताया कि शेष अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु टीमे बनाकर दबिश दी जा रही है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *