लखनऊ

बीजेपी नेता ने खुद पर काराया था जानलेवा हमला, पुलिस ने किया खुलासा

लखनऊ : भाजपा नेता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी की हत्या के मामले में राजधानी पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। पुलिस का दावा है कि प्रत्यूष ने अपने साथियों से खुद पर हमला करवाया था ताकि उसे सरकारी सुरक्षा मिल सके। पुलिस की माने तो साजिश के तहत प्रत्यूष ने 25 नवंबर को कैसरबाग में हुए विवाद के आरोपितों पर हमला करने का आरोप लगाकर उन्हें जेल भिजवाने की योजना बनाई थी।

एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक पड़ताल में घटनास्थल से कुछ दूर लगे सीसी कैमरे में बाइक से भागते प्रत्यूष के परिचित कैद हुए थे और उनकी लोकेशन भी वहीं मिली थी। आरोपितों ने वारदात कबूल की, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

एएसपी ट्रांसगोमती हरेंद्र कुमार के मुताबिक प्रत्यूष की पत्नी प्रतिमा ने पूछताछ में बताया था कि तीन दिसंबर को शाम छह बजे उनके पति अपने साथी फैजुल्लागंज निवासी आशीष कुमार अवस्थी की बाइक पर बैठकर निकले थे। वहीं प्रत्यूष की बाइक से उनके पीछे सैदापुर मड़ियांव निवासी महेंद्र गुप्ता और न्यू गरौड़ा सरोजनीनगर निवासी अनिल राणा भी गए थे। रात करीब 10:45 बजे प्रतिमा के पास प्रत्यूष के मोबाइल से पुलिस ने फोन किया था। प्रतिमा ने जानकारी लेने के लिए आशीष को फोन कर घटना के बारे में पूछा था, जिसपर उसने साथ में होने से इंकार कर दिया था। पड़ताल में पता चला कि 25 नवंबर को प्रत्यूष के पड़ोस में रहने वाले जीशान, सलमान, अदनान और शिबू से मारपीट हुई थी। आरोपितों को जेल भिजवाने और पुलिस सुरक्षा लेने के लिए प्रत्यूष ने अपने घर पर दो अन्य परिचित सेक्टर ए मड़ियांव निवासी प्रभात कुमार और त्रिवेणी नगर निवासी अमित अवस्थी के साथ खुद पर हमले की योजना बनाई थी।

प्रत्यूष खुद के बिछाए जाल में फंसकर अपनी जान गवां बैठे, अत्यधिक रक्तस्राव मौत का कारण बना और साजिश में शामिल सभी आरोपित जेल भेजे गए। पुलिस पहले दिन से घटना पर संदेह जता रही थी। यही वजह है कि पुलिस ने हत्या के बजाय कैसरबाग में दर्ज मामले में जीशान, अदनान, सलमान और शिबू को गिरफ्तार किया था। सीओ महानगर संतोष कुमार सिंह के मुताबिक गिरफ्तार पांचों लोगों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या में पड़ताल की जाएगी।

पुलिस का दावा है कि प्रत्यूष ने हमले के बाद आरोपितों को ट्रामा सेंटर पहुंच हंगामा करने के लिए कहा था और मीडिया को बुलाने की योजना बनाई थी। ट्रामा में भाजपा नेता की मौत के बाद खुद को बचाने के लिए आरोपितों ने साथियों संग हंगामा और पुलिस से अभद्रता की थी। पुलिस ने पांचों आरोपित अनिल कुमार राणा, आशीष अवस्थी, महेंद्र गुप्ता, प्रभात कुमार उर्फ ऋषि और अमित अवस्थी को गिरफ्तार किया है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *