लखनऊ

तहसील व ब्लाक में न रुकने वाले अफसरों की अब खैर नहीं, योगी ने दिए सख्त आदेश

लखनऊ : जिलों में अधिकारीयों की अनुपस्थिति को देखते हुए बीते दिनों खुद मुख्यमंत्री ने तहसील व ब्लाक में न रुकने वाले अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी थी। लेकिन, तीन माह बाद भी यह रिपोर्ट उन्हें नहीं भेजी गई। अब सीएम ने इस पर नाराजगी जताई है और ऐसे अफसरों के नाम मांगे हैं तो सभी विभागों में हड़कंप मचा है।

दरअसल, मुख्यमंत्री को यह जानकारी मिली थी कि तहसील व ब्लाक स्तर पर तैनात अधिकारी मुख्यालय में नहीं रुकते। एसडीएम, सीओ, तहसीलदार बीडीओ और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर तैनात अधिकारी तहसील व ब्लाक में न रुककर मुख्यालय भाग आते हैं। इससे जहां समय नष्ट होता है, वहीं लोगों को भी परेशानी उठानी पड़ती है। इस पर मुख्यमंत्री ने 20 अगस्त को सभी विभागों को पत्र भेजकर निर्देश दिया था कि मुख्यालय में निवास न करने वाले अधिकारियों का ब्योरा एकत्र कर उनके खिलाफ कार्रवाई से अवगत कराया जाए।

लेकिन, किसी भी विभाग ने ऐसा नहीं किया। इस पर मुख्यमंत्री ने रिमाइंडर जारी करते हुए नाराजगी जताई है कि तीन माह बाद भी उन्हें रिपोर्ट न मिलना गंभीर है। उनके पत्र के बाद मुख्य सचिव ने सभी विभागों की नकेल कसी है। इसके बाद अधिकारियों ने इसका विवरण जुटाना शुरू कर दिया है।

डीएम से एसडीएम-तहसीलदारों का ब्योरा तलब

मुख्यमंत्री के पत्र के बाद राजस्व परिषद के अध्यक्ष प्रवीर कुमार ने जिलाधिकारियों को पत्र भेजकर तीन दिन के भीतर ऐसे एसडीएम और तहसीलदारों के नाम मांगे हैं। ऐसे अधिकारियों का निवास स्थान व फोन नंबर मांगा गया है। राजस्व परिषद अध्यक्ष ने जिलाधिकारी व मंडलायुक्तों को इसके लिए औचक निरीक्षण के निर्देश भी दिए हैं। नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग भी विवरण जुटा रहा है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *