संतकबीरनगर

गठबंधन से मची सपा-बसपा में उहापोह, कौन होगा संतकबीरनगर से सांसद प्रत्याशी!

शैलेन्द्र मणि त्रिपाठी
संतकबीरनगर:
शनिवार को बसपा सुप्रीमो मायावती एवं सपा प्रमुख अखिलेश यादव की राजधानी लखनऊ में हुई साझा प्रेस कांफ्रेंस के बाद यह तय हो गया कि 2019 का आम चुनाव सपा-बसपा मिलकर लडेंगें। इसकी रणनीति कई माह से चल रही थी। शनिवार को उसका औपचारिक उदघाटन भी हो गया।

इस गठबंधन से केवल अन्य पार्टियों की ही नींद नहीं उडी है बल्कि सपा-बसपा के कार्यकर्ताओं में भी ऊहापोह की स्थिति पैदा कर दी है। भाजपा और उसके गठबंधन के साथियों को यह राजनैतिक गठबंधन किस प्रकार पटखनी देगा और कांग्रेस का अगला कदम क्या होगा यह तो भविष्य के गर्भ में है। लेकिन संतकबीरनगर जिले की खलीलाबाद लोकसभा सीट पर किस दल का प्रत्याशी होगा यह अभी तय न होने से दोनों दलों के कार्यकर्ताओं में ऊहापोह की स्थिति है।

सपा-बसपा की साझा कांफ्रेंस के बाद अचानक खबर उडी और कई न्यूज चैनलों के स्क्रीन शाॅट सोशल मीडिया पर वायरल हुए कि खलीलाबाद लोकसभा सीट पर पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा अयूब सपा के टिकट पर चुनाव लडेगें। लेकिन पार्टी के पुष्ट सूत्रों के अनुसार डा अयूब पीस पार्टी छोड़ छोड किसी अन्य पार्टी के चुनाव चिन्ह पर चुनाव नहीं लडेगें। वहीँ एक बात यह भी सामने आ रही है की डॉ अयूब डुमरियागंज लोकसभा सीट से दाव आजमाना छह रहे हैं।

पीस पार्टी के सूत्रों के अनुसार डॉ अयूब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी से मिलने के लिये दिल्ली रवाना हो चुके हैं। और पीस पार्टी शायद कांग्रेस से गठबंधन कर 2019 का चुनाव लड़े।

वहीँ दूसरी ओर बसपा कार्यकर्ता यह दावा कर रहे हैं यह सीट पूर्व सांसद कुशल तिवारी को जायेगी तो सपा कार्यकर्ताओं के अनुसार इस सीट पर पूर्व सांसद भालचंद्र यादव सपा से लडेंगें। शीर्ष नेतृत्व के सामने सबसे बडी चुनौती यह होगी कि घोषित प्रत्याशी किसी भी दल का हो लेकिन अंदरखाने जो बगावत की ज्वाला उठेगी उसको हर हाल में दबाना ताकि जनता में भ्रम की स्थिति न रहे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *