गोरखपुर गोरखपुर मंडल

कानपुर मुठभेड़ में गोरखपुर के SI घायल, सूचना मिलते ही बुजुर्ग माता पिता हुए बेहाल

about-us-wel

गोरखपुर (ओ पी श्रीवास्तव): कानपुर में अपराधियों के साथ मुठभेड़ में आठ पुलिस कर्मी शहीद हो गये तथा पांच घायल हो गये। घायलों में उपनिरीक्षक पद पर तैनात गोरखपुर जनपद के गोला थाना क्षेत्र स्थित बेलपार पाठक गांव निवासी 52 वर्षीय सुधाकर पांडेय भी हैं। जिसकी सूचना पाते ही बुजुर्ग माता पिता बेसुध हो गये तथा ग्रामीण उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हो गये।स्वजनों की माने तो उनकी हालत में लगातार सुधार हो रहा है।

शुक्रवार को तकरीबन आठ बजे सुबह गोला थाने से सूचना घायल उपनिरीक्षक के गांव पहुंची कि वे कानपुर मुठभेड़ में घायल हो गए हैं। जैसे ही यह सूचना पुलिस के द्वारा उनके 80 वर्षीय पिता रामनयन पांडेय व 74 वर्षीय माता शारदा देवी को मिली तो बुजुर्ग दम्पति की हालत खराब हो गई।

उपनिरीक्षक के छोटे भाई अमरनाथ पाण्डेय जो अपनी आटो से गोरखपुर जा रहे थे उनको भी ग्राम प्रधान राजेश यादव के द्वारा सूचना दी गयी। उनके भाई अमरनाथ पांडेय ने कानपुर से उनकी हालत पता की। कानपुर में मौके पर मौजूद घायल उपनिरीक्षक के पुत्र प्रवीण पांडेय व पत्नी पुष्पा देवी ने उनके हालत में सुधार की जानकारी दी। जिसके बाद स्वजनों को राहत मिली। उनके पुत्र प्रवीण व पुत्री पूजा की शादी हो चुकी है।

1985 में कांस्टेबल पद पर हुई थी तैनाती
उपनिरीक्षक सुधाकर पाण्डेय वर्ष 1985-86 बैच में 18 वर्ष के उम्र में उत्तर प्रदेश पुलिस में चयनित होकर बरेली में कांस्टेबल पद तैनात हुए थे तथा पांच वर्ष पूर्व ही पदोन्नति होकर उपनिरीक्षक बने थे। तकरीबन दो वर्ष से वह कानपुर के विभिन्न थानों में तैनात रहे। वर्तमान समय में वह चौबेपुर थाने में तैनाती है। लखनऊ में बांग्ला बाजार स्थित फांसी किला चौराहा के पास उन्होंने अपना मकान बनवा लीया है तथा पत्नी व बच्चों के साथ वहीं रहते हैं।

वीडियो में बेटे को देखकर माता पिता को मिली राहत
बेटे के घायल होने की सूचना पर दूखी माता पिता ने जब बेटे को वीडियो काॅलिंग में बैठा देखा तब उन्हें कुछ राहत मिली लेकिन थोड़ी थोडी देर पर वह फिर से फूट फूट कर रोने लगते। ग्रामीण उन्हें लगातार शांत कराने की कोशिश कर रहे थे।

पिता ने अपराधियों को सख्त सजा देने की मांग की
घायल उपनिरीक्षक के पिता ने इस घटना को अंजाम देने वाले अपराधियों को सख्त से सख्त सजा देने की मांग की है। उन्होंने ने कहा अपराधियों को उन्हीं की भाषा में जवाब दिया जाये जिससे इस प्रकार के अपराध करने वाले लोगों में भय बनें।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *