गोरखपुर गोरखपुर मंडल

गोरखपुर: ईसीजी करने में तकनीशियन हो गया कोरोना संक्रमित

FIBSOtech

गोरखपुर (अरविन्द श्रीवास्तव): कोरोना वायरस से बचाव में थोड़ी सी ही चूक किसी को भी अपना शिकार बना सकती है। जरूरी नहीं कि कोरोना पीड़ित के संपर्क में आने के 24 घंटे के भीतर ही लक्षण दिख जाएंगे। इसके ताजा मिसाल है गोरखपुर के एक तकनीशियन

15 मिनट के ईसीजी में गोरखपुर शहर के एक तकनीशियन कोरोना संक्रमण के शिकार हो गए। इसलिए डब्ल्यूएचओ की सलाह को नजर अंदाज न करें और लॉकडाउन में नियमों का पालन करते हुए घरों पर रहें।

बता दें कि बरगदवां की रहने वाली महिला का ईसीजी 15 अप्रैल को हुआ था। ईसीजी करने वाले टीम में दो डॉक्टर समेत तीन अन्य स्वास्थ्य कर्मी शामिल थे। ईसीजी करने में पूरी टीम को महज 15 मिनट लगा था। कुल 45 मिनट तक महिला अस्पताल में थी। इसके बाद एंबुलेंस से महिला पीजीआई लखनऊ चली गई।

इसके बाद जब 19 मई को रिपोर्ट जांच के लिए भेजा और 21 की रात में रिपोर्ट आई तो वह खुद भी तनाव में आ गया। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि महज 15 मिनट के अंदर बेहद सावधानी पूवर्क ईसीजी किया गया। ऐसे में कैसे इतने कम समय में वायरस शरीर के अंदर प्रवेश कर गया।

संक्रमित तकनीशियन के संपर्क में आए 9 लोग चिन्हित

कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद तकनीशियन के संपर्क में आए नौ लोगों की पहचान हो चुकी है। इनमें निजी अस्पताल के डॉक्टर के पिता समेत पत्नी और तीन बच्चे शामिल है। इसके अलावा गोरखनाथ थाना क्षेत्र के शास्त्री नगर कॉलोनी का रहने वाला एक युवक, कैंपियरगंज थाना क्षेत्र के लक्ष्मीपुर द्वितीय का एक युवक और सूरजकुंड गायत्री मंदिर के पास रहने वाला एक युवक शामिल है। इन सबको को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने क्वारंटीन की सलाह दी है।

सीएमओ की गाइड लाइन

सीएमओ डॉ श्रीकांत तिवारी ने लोगों से अपील की है कि वह बेवजह घर से न निकले। साबुन से हाथ धुलकर मास्क लगाए। अगर बाहर निकलना है तो हाथों को सैनिटाइज करें।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *