टॉप न्यूज़

कोरोना संकट से निपटने के लिए सांसद रवि किशन ने की अपने 5 साल का वेतन देने की पेशकश

about-us-wel

फाइनल रिपोर्ट डेस्क
गोरखपुर:
सदर सांसद और बॉलीवुड स्टार रवि किशन ने कोरोना महामारी से लड़ने के लिए अपने संपूर्ण पांच साल का वेतन देने की पेशकश की है। सभी सांसदों के दो साल के विकास निधि को स्थगित कर संपूर्ण पैसे को कोरोना से उपजे संकट से निपटने में लगाने के निर्णय का स्वागत करते हुए सांसद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील करते हुए कहा है कि उनके संपूर्ण पांच वर्ष का वेतन से महामारी से निपटने के लिए ले लिया जाये।

अपने फेसबुक वॉल पर एक पोस्ट शेयर करते हुए सांसद ने लिखा है कि पीएम मोदी ने कैबिनेट की बैठक में सभी सांसदों के एक वर्ष के वेतन का 30 प्रतिशत और दो वर्ष की सांसद निधि यानी 10 करोड़ देने के लिए तथा इस वैश्विक महामारी से देश को बचाने का लिया है। मैं इस निर्णय का ह्रदय से स्वागत करता हूँ।

वो आगे लिखते हैं कि.” इस महामारी से निपटने के लिए मैं अपने एक माह का वेतन और सांसद निधि से एक करोड़ 50 लाख पहले ही दे चुका हूँ। मैं प्रधानमंत्री जी से अनुरोध करता हूँ कि यदि आगे जरुरत पड़ी तो मेरे सांसद निधि और संपूर्ण पांच साल का वेतन इस वैश्विक महामारी से लड़ने के लिए ले लिया जाये। क्यूंकि अगर देश है तो हम सब हैं, हम देश के लिए कुछ भी करने को तैयार हैं।”

गौरतलब है कि सोमवार को हुए कैबिनेट की बैठक में दोनों सदनों के 790 सांसदों के वेतन से तीस फीसद धनराशि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में लगाए जाने के निर्णय लिया गया। इसके साथ ही हर साल हर सांसद को मिलने वाली पांच करोड़ रुपये की सांसद निधि भी दो साल तक सरकार के कंसोलिडेटेड फंड में भेजने का निर्णय लिया गया।

सोमवार को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट ने इस आशय के अध्यादेश को मंजूरी दे दी। यह अध्यादेश एक अप्रैल, 2020 से एक साल के लिए अमल में आ रहा है। इस फैसले के तत्काल बाद ही राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और राज्यपालों ने भी स्वेच्छा से साल भर तक तीस फीसद कम वेतन लेने का एलान किया। कैबिनेट के फैसले की जानकारी देते हुए केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने सोमवार को बताया कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में हर किसी का योगदान चाहिए। ऐसे मे अगर दो साल तक सांसद निधि रुकती है तो सरकार के खाते में 7900 करोड़ रुपये आएंगे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *